Friday, October 7, 2022
HomeNew SongsBhari Mehfil Lyrics In Hindi English || Bhari mehfil mein hum hai...

Bhari Mehfil Lyrics In Hindi English || Bhari mehfil mein hum hai muskuraye || भरी महफिल ||

Bhari Mehfil Lyrics In Hindi English

Summary : Bhari Mehfil Song Babbar Album का Song है। इस गाने को Babbu Maan ने गाया है। और Music Patralikaa B ने दिया है। इस गाने के बोल Amrit Maan ने लिखे है।

About : Bhari Mehfil Song

  • Song Title : Bhari Mehfil
  • Album : Babbar (2022)
  • Singer : Babbu Maan
  • Music  : Patralikaa B
  • Lyrics : Kunaal Vermaa
  • Label : Meri Tune

Bhari Mehfil (Official Video)

Bhari Mehfil Lyrics In Hindi

तेरे बिन जीने का मन तो नहीं है
हमारे पास दूजा रास्ता नहीं
शिकायत है मगर करते नहीं हम
दुखाते दिल खामखा नहीं

पता है जब नहीं मुजरिम मैं तेरा
तुझे भी इल्म है कि तू खुदा नहीं

भरी महफिल में हम है मुस्कुराये
भरी महफिल में हम है मुस्कुराये
वहाँ रोये जहाँ कोई देखता नहीं
भरी महफिल में हम है मुस्कुराये
वहाँ रोये जहाँ कोई देखता नहीं

मेरी बाहों से निकले तो
नया हमदम बना बैठे
मेरे दिल को तबाह करके
किसी का घर सजा बैठे

बड़ी कातिल आदाएं यार की है
बताया जान लेकर ख़ुदकुशी है

मुकर्रर क़त्ल की है जब सजाएं
दिलो के कातिलों को क्यों सजा नहीं

भरी महफिल में हम है मुस्कुराये
वहाँ रोये जहाँ कोई देखता नहीं

जब जब आईने से नजरे मिलाओगे तो
खुद में दिखेगा तुम्हे इक बेवफा
तेरा अंजाम है तेरी शुरआत है
मैं तो हो चूका हूँ तुझे होना बर्बाद है

चलो हम माफ़ कर देते है तुमको
मिलेगा बद्दुआ में वो मजा नहीं

भरी महफिल में हम है मुस्कुराये
भरी महफिल में हम है मुस्कुराये
वहाँ रोये जहाँ कोई देखता नहीं
भरी महफिल में मुस्कुराये
वहाँ रोये जहाँ कोई देखता नहीं

Bhari Mehfil Lyrics In English

Tere bin jeene ka mann to nahi hai
Hamare paas dooja raasta nahi
Shikayat hai magar karte nahi hum
Dukhate dil kisi ka khamakha nahi

Pata hai jab nahi mujrim main tera
Tujhe bhi ilam hai ke tu khuda nahi

Bhari mehfil mein hum hai muskuraye
Bhari mehfil mein hum hai muskuraye
Wahan roye jahan koi dekhta nahi

Bhari mehfil mein muskuraye
Wahan roye jahan koi dekhta nahi

Meri baahon se nikle to
Naya humdum bana bethe
Mere dil ko tabaah karke kisi ka
Ghar saja bethe

Badi qatil adaayein yaar ki hai
Bataya jaan lekar khudkhusi hai
Mukaddar qatal ki hai jab sajayein
Dilon ke qatilon ko kyun saza nahi

Bhari mehfil mein hum hai muskuraye
Bhari mehfil mein hum hai muskuraye
Wahan roye jahan koi dekhta nahi

Bhari mehfil mein muskuraye
Wahan roye jahan koi dekhta nahi

Jab jab aayine se nazarein milaoge to
Khud mein dikhega tumhe ik bewafa
Mera anjaam hai teri shuruat hai
Main to ho chuka hoon tujhe hona barbad hai

Chalo hum maaf kar dete hain tumko
Milega baddua mein woh maza nahi

Bhari mehfil mein hum hai muskuraye
Bhari mehfil mein hum hai muskuraye
Wahan roye jahan koi dekhta nahi

Bhari mehfil mein muskuraye
Wahan roye jahan koi dekhta nahi

RELATED ARTICLES

Most Popular

close