रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर || Rehne Ko Ghar Nahi Lyrics in Hindi/English ||

Summary : Rehne Ko Ghar Nahi  यह Song Sadak Movie से हैं, इस फिल्म में Sanjay Dutt, Pooja Bhatt, Deepak Tizori, Neelima Azeem & Sadashiv Amrapurkar मुख्य भूमिका में थे। इस गाने को गाया है Kumar Shanu ने, Music दिया है Nadeem-Shravan ने और गाने के बोल लिखे हैं Sameer ने।
Sadak Movie का Music Album बहुत ही trend में रहा क्योकि इसका एक एक गाना दिल को सीधा छू लेता है। 

About : Rehne Ko Ghar Nahi Song

  • Song Title : Rehne Ko Ghar Nahi  
  • Movie : Sadak (1991)
  • Singer : Kumar Shanu
  • Music : Nadeem-Shravan
  • Lyricist : Sameer
  • Starcast : Sanjay Dutt, Pooja Bhatt
  • Director : Mahesh Bhatt
  • Music Label : T-Series

Rehne Ko Ghar Nahi Song Lyrics in Hindi

rehne ko ghar nahi song lyrics hindi

रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर नहीं 
रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर नहीं 
अपना खुदा है रखवाला 
अब तक उसी ने है पाला 

रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर नहीं 
रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर नहीं 
अपना खुदा है रखवाला 
अब तक उसी ने है पाला..

अपनी तो जिन्दगी कटती है फूटपाथ पे 
ऊंचे-ऊंचे ये महल अपने हैं किस काम के 
हमको तो माँ बाप के जैसी लगती है सड़क 
कोई भी अपना नहीं रिश्तें हैं बस नाम के 
अपने जो साथ है ये अंधेरी रात है 
अपना नहीं है उजाला 
अब तक उसी ने है पाला..

हम तो मज़दूर हैं हर गम से दूर हैं 
मेहनत की रोटिया मिल-जुल के खाते हैं 
हम कभी नींद की गोलियां लेते नहीं
रख के पत्थर पे सर थक के सो जाते हैं 
तूफां से जब घिरे राहों में जब गिरे 
हमको उसी ने संभाला 
अब तक उसी ने है पाला..

ये कैसा मुल्क है ये कैसी रीत है 
याद करते हैं हमें लोग क्यों मरने के बाद 
अंधे-बहरों की बस्ती चारों तरफ अंधेर है 
सब के सब लाचार हैं 
कौन सुने किसकी फरियाद 
ऐसे मे जीना है हमको तो पीना है 
जीवन जहर का है प्याला 
अब तक उसी ने है पाला

रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर नहीं 
रहने को घर नहीं सोने को बिस्तर नहीं 
अपना खुदा है रखवाला 
अब तक उसी ने है पाला 
अपना खुदा है रखवाला 
अब तक उसी ने है पाला..

Rehne Ko Ghar Nahi Song Lyrics in English

Rehne Ko Ghar Nahin 
Sone Ko Bistar Nahin
Rehne Ko Ghar Nahin 
Sone Ko Bistar Nahin
Apna Khuda Hai Rakhwala
Ab Tak Usi Ne Hai Pala

Rehne Ko Ghar Nahin 
Sone Ko Bistar Nahin
Rehne Ko Ghar Nahin 
Sone Ko Bistar Nahin
Apna Khuda Hai Rakhwala
Ab Tak Usi Ne Hai Pala..

Apni To Zindagi 
Kat’ti Hai Footpath Pe
Unche Unche Yeh Mehal 
Apne Hai Kis Kaam ke

Humko To Maa Baap Ke 
Jaisi Lagti Hai Sadak
Koi Bhi Apna Nahin
Rishte Hai Bas Naam Ke

Apne Jo Saath Hai 
Yeh Andheri Raat Hai
Apna Nahin Hai Ujala
Ab Tak Usi Ne Hai Pala..

Hum To Majdoor Hai 
Har Gham Se Door Hai
Mehnat Ki Rotiya 
Mil Jhul Ke Khate Hai

Hum Kabhi Neend Ki 
Goliya Lete Nahin
Rakh Ke Patthar Pe Sar 
Thak Ke So Jate Hai

Toofan Se Jab Ghire 
Rahon Mein Jab Gire
Humko Usi Ne Sambhala
Ab Tak Usi Ne Hai Pala..

Yeh Kaisa Mulk Hai
Yeh Kaisi Reet Hai
Yaad Karte Hai Hume Log 
Kyon Marne Ke Baad

Andhe Bahron Ki Basti 
Charo Taraf Andher Hai
Sab Ke Sab Lachar Hai
Kaun Sune Kiski Fariyaad

Aise Mein Jeena Hai 
Humko To Peena Hai
Jeevan Zehar Ka Hai Pyala
Ab Tak Usi Ne Hai Pala

Rehne Ko Ghar Nahin 
Sone Ko Bistar Nahin
Rehne Ko Ghar Nahin 
Sone Ko Bistar Nahin
Apna Khuda Hai Rakhwala
Ab Tak Usi Ne Hai Pala
Apna Khuda Hai Rakhwala
Ab Tak Usi Ne Hai Pala..

close