Saadagi To Hamari Zara Dekhiye Ghazal Lyrics in Hindi/English || सादगी तो हमारी जरा देखिये ||

Saadagi To Hamari Zara Dekhiye Ghazal Lyrics in Hindi/English

Summary : Saadagi To Hamari Zara Dekhiye ये ग़ज़ल Nusrat Fateh Ali Khan द्वारा लिखा गया हैं। इस ग़ज़ल को Nusrat Fateh Ali Khan Sahab ने गाया हैऔर इसके बोल भी Nusrat Fateh Ali Khan ने लिखे है।

About : Saadagi To Hamari Zara Dekhiye Ghazal

  • Song Title : Saadagi To Hamari Zara Dekhiye
  • Singer : Nusrat Fateh Ali Khan
  • Lyricist : Nusrat Fateh Ali Khan

Saadagi To Hamari Zara Dekhiye Ghazal

Saadagi To Hamari Zara Dekhiye Ghazal Lyrics in Hindi

सादगी तो हमारी जरा देखिये
एतबार आपके वादे पे कर लिया
सादगी तो हमारी जरा देखिये
सादगी तो हमारी जरा देखिये

मस्ती में इक हसीन को खुदा कह गए हैं हम
जो कुछ भी कह गए हैं हम
सादगी से हमारी ज़रा देखिये
सादगी से हमारी ज़रा देखिये

चारोफदगी तो देखो हमारे खालोस कि
क्या सादगी कहो तुझे खुदा कह गए हैं हम
सादगी से हमारी ज़रा देखिये
सादगी से हमारी ज़रा देखिये

किस छाप किस चुंबन किस तमन्ना किस दरजा सादगी
हम आप की शिकायत करते हैं आप ही से
सादगी सतो हमारी जरा देखिये
सादगी से हमारी जरा देखिये

सादगी तो हमारी जरा देखिये
सादगी तो हमारी जरा देखिये
एतबार आपके वादे पे कर लिया

इक तेरे अटा की रौदाद हो गए हैं हम
तेरे अटा की रौदाद हो गए हैं हम
बड़े खुलोस से बरबाद हो गए हैं हम
सादगी तो हमारी जरा देखिये
सादगी तो हमारी जरा देखिये

बात तो सीर्फ एक रात की थी मगर
इंतज़ार आपका उम्रभर कर लिया
इश्क में उलझने पहले ही कम न थी
और पैगामे आ-दर्दे-सर कर लिया

लोग डरते हे कातिल की परछाईं से
हमने कातिल के दिल में भी घर कर लिया
जिक्र इक बेवफ़ा और सितम ग़र का था
आपका ऐसी बातों से क्या वास्ता

आप तो बेवफा और सितमगर नहीं
आपने किस लिए मुह उधर कर लिया
जिंदगी भर के शिकवे-गिले थे बहुत
वक़्त इतना कहाँ था कि दोहराते हम 
इक हिचकी में कह डाली सब दास्तान
हमने किस्से को यूँ मुख़्तसर कर लिया

बेकरारी मिलेगी मिटेगा सुकून
चैन छिन जायेगा नीद उड़ जायेगी
अपना अंजाम सब हमको मालूम था
आपसे दिल का सौदा मगर कर लिया
जिंदगी के सफ़र में बहुत दूर तक
जब कोई दोस्त आया न हमको नज़र

हमने घबरा के तन्हाइयो से
इक दुश्मन को खुद हमसफ़र कर लिया

मेरी हलत देख कर तुम क्यों परशान हो गए
ज़िकाकर इक बेवफ़ा और सीतामगर का था
ज़िक्कर इक बेवफ़ा और सीतामगर का था

आप का ऐसा बातों से क्या वास्तु
आप से बेवफा और सीतामगर नहीं
आप ने किस लिए मुह उधार कर लिया

जब तुलु आफताब होता है गम के सागर ऊंचा देता हूं
तज़कारा जब वफ़ा का होता है में तुम्हारी मिसाल देता हूँ

आप तो बेवफा और सीतामगर नहीं
आप तो बेवफा और सीतामगर नहीं

क्यों आंख मिलाई थी क्यों आग लगी थी
उब रुख क्यों चुप बैठे कर के मुझे दीवाना
आप से बेवफा और सीतामगर नहीं

आप से बेवफा और सीतामगर नहीं
जिंदगी-भर के शिकवे-गिले द बहोत
वक्त इतना कहां था के दोहराते हम
एक हिजकी में कह डाली सब दास्तान

हम किस को यूं मुक्तासार कर लिया
बेकरारी मिला गी मिटेगा सुकून
चेन चिन जाएगा नींद उड़ जाएगी

अपना अंजाम सब हम को मालूम था
आपसे दिल का सौदा मगर कर लिया
जिंदगी के सफर में बहुत दूर तक

जब कोई दोस्त आया न हमको नज़र
हमें घबरा के तनहाईयों से सदा
एक दुश्मन को खुद हमसफर कर लिया

सादगी तो हमारी जरा देखिये
एतबार आपके वादे पे कर लिया
सादगी तो हमारी जरा देखिये
एतबार आपके वादे पे कर लिया   

Saadagi To Hamari Zara Dekhiye Song Lyrics in English

Saadagi To Hamari Zara Dekhiye
Aitbaar Aapke Vaade Per Kar Liya
Sadgi to hamari zara dekhiyeh
Sadgi to hamari zara dekhiyeh

Masti mein ik haseen ko khuda kah gaye hain hum
jo kuch bhi keh gaye hein baja keh gaye hain hum
Saadgi to hamari zara dekhiye
saadgi to hamari zara dekhiye

Charofadgi to dekho hamare khaloos ki
kis saadgi say tujhko khuda keh gaye hain hum
saadgi to hamari zara dekhiye
saadgi to hamari zara dekhiye

Kiss chop kiss tamanna kis darja sadgi se
hum aap ki shikayat karte hain aap hi se
saadgi to hamari zara dekhiye
saadgi to hamari zara dekhiye

Ik tere ata ki rodaad ho gaye hain hum
tere ata ki rodaad ho gaye hain hum
badhe khuloos se barbaad ho gaye hain hum
Saadgi to hamari zara dekhiye
saadgi to hamari zara dekhiye

saadgi to hamari zara dekhiyeh
Saadgi to hamari zara daikhiyeh
aitbaar aapke vaade par kar liya

Baat to sirf ik raat ki thi magar
intzaar aap ka umar bhar kar liya

Ishq mein uljhane pehle hi kam na thi
aur paida naya dard-e-sir kar lia

Log darte hain kaatil ki parchaayi se
humne qatil ke dil mein bhi ghar kar lia

Zikkar ik bewafa aur sitamgar ka tha
shikwa kia sitam ka to namdida ho gaye
tum to zara si baat par ranjida ho gaye
zikkar ik bewafa aur sitamgar ka tha

Tera zulam nahi hai shamil gar meri barbadi mein
phir yeh aankhein bheeg rahi hain kyun mere afsaane se

zikkar ik bewafa aur sitamgar ka tha
zikakr ik bewafa aur sitamgar ka tha

meri halat dekh kar tum kyun pareshan ho gaye
zikakr ik bewafa aur sitamgar ka tha
Zikkar ik bewafa aur sitamgar ka tha

aap ka aise baaton se kya waasta
Aap to bewafa aur sitamgar nahi
aap ne kis liye muh udhar kar liya

Jab tulu aaftab hota hai gham ke sagar uchaal deta hoon
tazkara jab wafa ka hota hai mein tumhari misaal deta hoon

aap to bewafa aur sitamgar nahi
aap to bewafa aur sitamgar nahi

kyun aankh milayi thi kyun aag lagai thi
ub rukh kyun chupa baithe kar ke mujhe deewana
aap to bewafa aur sitamgar nahi

aap to bewafa aur sitamgar nahi
zindagi-bhar ke shikwe-gile the bahot
waqt itna kahan tha ke dohratay hum
ek hijki mein keh dali sub dastaan

hum kisse ko yun mukhtasar kar lia
beqarari milay gi mitega sukoon
chain chin jayega neend ud jayegi

apna anjaam sub hum ko maloom tha
aapse dil ka sauda magar kar lia
zindagi ke safar mein bahot dur tak

jab koi dost aaya na humko nazar
humne ghabra ke tanhaaiyon se sada
ek dushman ko khud humsafar kar liya

Saadagi To Hamari Zara Dekhiye
aitbaar Aapke Waday Per Kar Liya
Saadagi To Hamari Zara Dekhiye
aitbar Aapke Waade Per Kar Liya

close