सारे जहाँ से अच्छा || Sare Jahan Se Achha Lyrics in Hindi/English ||

Song Title : Sare Jahan Se Achha
Singer : Lata Mangeshkar
Lyricist : Muhammad Iqbal 
Music : Pt. Ravi Shankar
Label : Saregama

Sare Jahan Se Achha Lyrics in Hindi

sare jahan se achha lyrics

सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्तां हमारा हमारा
सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्तां हमारा
हम बुलबुलें हैं इसकी, यह गुलसितां हमारा हमारा
सारे जहाँ से अच्छा..

गुरबत में हो अगर हम, रहता है दिल वतन में
समझो वहीं हमें भी, दिल हो जहाँ हमारा
सारे जहाँ से अच्छा..

पर्वत वो सबसे ऊँचा, हमसाया आसमाँ का
वो संतरी हमारा, वो पासबां हमारा
सारे जहाँ से अच्छा..

गोदी में खेलती हैं, जिसकी हजारों नदियाँ
गुलशन है जिसके दम से, रश्क-ए-जनाँ हमारा
सारे जहाँ से अच्छा..

ऐ आब-ए-रूद-ए-गंगा, वो दिन है याद तुझको
उतरा तेरे किनारे, जब कारवां हमारा
सारे जहाँ से अच्छा..

मजहब नहीं सिखाता, आपस में बैर रखना
हिन्दी हैं हम वतन हैं, हिन्दोस्तां हमारा
सारे जहाँ से अच्छा..

यूनान-ओ-मिस्र-ओ-रूमा , सब मिट गए जहाँ से 
अब तक मगर है बाकी, नाम-ओ-निशां हमारा
सारे जहाँ से अच्छा..

कुछ बात है कि हस्ती, मिटती नहीं हमारी
सदियों रहा है दुश्मन, दौर-ए-जहाँ हमारा
सारे जहाँ से अच्छा..

इकबाल कोई मरहूम, अपना नहीं जहाँ में
मालूम क्या किसी को, दर्द-ए-निहां हमारा

हम बुलबुलें हैं इसकी, यह गुलसितां हमारा हमारा
सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्तां हमारा हमारा
सारे जहाँ से अच्छा..

Sare Jahan Se Achha Lyrics in English

Sare Jahan Se Achha, Hindostaan Hamara Hamara
Sare Jahan Se Achha, Hindostaan Hamara
Hum Bulbule Hai Iski, Yeh Gulsitaan Hamara Hamara
Sare Jahan Se Achha..

Gurbat Mein Ho Agar Hum Rehta Hai Dil Watan Mein
Samjho Wahi Hume Bhi Dil Ho Jahan Hamara
Sare Jahan Se Achha..

Parvat Woh Sabse Uncha Humsaya Aasman Ka
Woh Santari Hamara, Woh Pasbaan Hamara
Sare Jahan Se Achha..

Godi Mein Khelti Jiski Hazaron Nadiyan
Gulshan Hai Jiske Dum Se, Rashq-E-Janan Hamara
Sare Jahan Se Achha..

Ae Aab-E-Rood-E-Ganga, Woh Din Hai Yaad Tujhko
Utra Tere Kinare, Jab Karvaan Hamara
Sare Jahan Se Achha..

Mazhab Nahin Sikhata, Aapas Mein Bair Rakhna
Hindi Hai Hum Watan Hai, Hindostaan Hamara
Sare Jahan Se Achha..

Yoonan-O-Misra-O-Rooma Sab Mit Gaye Jahan Se
Ab Tak Magar Baaki Hai, Naam-O-Nishan Hamara
Sare Jahan Se Achha..

Kuch baat Hai Ki Hasti Mit’ti Nahin Hamari
Sadiyon Raha Hai Dushman, Daur-E-Jahan Hamara
Sare Jahan Se Achha..

Iqbaal Koi Marhoom, Apna Nahin Jahan Mein
Maloom Kya Kisi Ko, Dard-E-Nihaan Hamara

Hum Bulbule Hai Iski, Yeh Gulsitaan Hamara Hamara
Sare Jahan Se Achha, Hindostaan Hamara Hamara
Sare Jahan Se Achha..

close