उस बेवफा की याद में || Us Bewafa Ki Yaad Mein Lyrics in Hindi/English ||

Summary : Us Bewafa Ki Yaad Mein Song Woh Bewafa Album से हैं। इस गाने को गाया है Agam Kumar Nigam, Music दिया है Nikhil और गाने के बोल लिखे हैं Praveen Bhardwaj ने।

About : Us Bewafa Ki Yaad Mein song

  • Song Title : Us Bewafa Ki Yaad Mein
  • Movie : Woh Bewafa (2008)
  • Singer : Agam Kumar Nigam
  • Music : Nikhil
  • Lyricist : Praveen Bhardwaj
  • Music Label : T-Series

Us Bewafa Ki Yaad Mein Song Lyrics in Hindi

us bewafa ki yad me lyrics hindi/english

उस बेवफा की याद में
मर मर के जी रहा हूँ
मै हूँ नही शराबी
डर डर के पी रहा हूँ

बहलाऊ कैसे दिल को
जब गम हो बेहिसाब
अच्छी हो या खराब
सब कुछ है अब शराब
अच्छी हो या खराब
सब कुछ है अब शराब

उस बेवफा की याद में
मर मर के जी रहा हूँ
मै हूँ नही शराबी
डर डर के पी रहा हूँ..

थोड़ा पी लेता हूँ 
थोड़ा जी लेता हूँ
दिल के इन जख्मों को
थोड़ा सी लेता हूँ

कल मिला था उनसे
युं ही बस राहों में
वो बहुत ही खुश थी
गैर की बाहों में

जख्मों से बस भरी है
अब दिल की ये किताब
अच्छी हो या खराब
सब कुछ है अब शराब
अच्छी हो या खराब
सब कुछ है अब शराब..

जिंदगी मुश्किल है 
जी रहा हूँ फिर भी
सब मना करते है 
पी रहा हूँ फिर भी

जब कभी भूले से 
नींद आ जाती है
वो मेरे ख्वाबों में 
फिर से छा जाती है

दुनिया सवाल पूछे 
किस किस को मैं दूँ जवाब
अच्छी हो या खराब 
सब कुछ है अब शराब
अच्छी हो या खराब 
सब कुछ है अब शराब

उस बेवफा की याद में
मर मर के जी रहा हूँ
मै हूँ नही शराबी
डर डर के पी रहा हूँ

बहलाऊ कैसे दिल को
जब गम हो बेहिसाब
अच्छी हो या खराब
सब कुछ है अब शराब
अच्छी हो या खराब
सब कुछ है अब शराब
अच्छी हो या खराब
सब कुछ है अब शराब..

Us Bewafa Ki Yaad Mein Song Lyrics in English

Us Bewafa Ki Yaad Mein
Mar Mar Ke Ji Raha Hoon
Uss Bewafa Ki Yaad Mein
Mar Mar Ke Ji Raha Hoon

Main Hoon Nahi Sharaabi
Dar Dar Ke Pi Raha Hoon
Behlaau Kaise Dil Ko
Jab Ghum Ho Behisaab
Achchi Ho Ya Kharaab
Sab Kuch Hai Ab Sharaab
Achhi Ho Ya Kharaab
Sab Kuchh Hai Ab Sharaab

Us Bewafa Ki Yaad Mein
Mar Mar Ke Ji Raha Hoon
Main Hoon Nahi Sharaabi
Dar Dar Ke Pi Raha Hoon..

Thoda Pi Leta Hoon
Thoda Ji Leta Hoon
Dil Ke In Jakhmon Ko
Thoda Si Leta Hoon

Kal Mila Tha Unse
Yun Hi Bas Raahon Mein
Woh Bahut Hi Khush Thi
Gair Ki Baahon Mein

Jakhmon Se Bas Bhari Hai
Ab Dil Ki Yeh Kitaab
Achhi Ho Ya Kharaab
Sab Kuchh Hai Ab Sharaab
Achchi Ho Ya Kharaab
Sab Kuchh Hai Ab Sharaab..

Zindagi Mushkil Hai 
Ji Raha Hoon Phir Bhi
Sab Mana Karate Hai 
Pi Raha Hoon Phir Bhi

Jab Kabhi Bhule Se 
Nind Aa Jaati Hai
Woh Mere Khwabon Mein
Phir Se Chha Jaati Hai

Duniya Sawaal Puchhe
Kis Kis Ko Main Du Jawaab
Achchi Ho Ya Kharaab
Sab Kuchh Hai Ab Sharaab
Achchi Ho Ya Kharaab
Sab Kuchh Hai Ab Sharaab

Uss Bewafa Ki Yaad Mein
Mar Mar Ke Ji Raha Hoon
Main Hoon Nahi Sharaabi
Dar Dar Ke Pi Raha Hoon

Behlaau Kaise Dil Ko
Jab Ghum Ho Behisaab
Achchi Ho Ya Kharaab
Sab Kuchh Hai Ab Sharaab
Achchi Ho Ya Kharaab
Sab Kuchh Hai Ab Sharaab
Achchi Ho Ya Kharaab
Sab Kuchh Hai Ab Sharaab..

close